मुरादाबाद के जैनुल ने रचा इतिहास, 65 किमी दौड़ पूरी कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराया नाम

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद के जैनुल आबेदीन उर्फ मुरादाबाद एक्सप्रेस ने गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराने के लिए लगातार बारह घंटे तक ट्रेडमिल पर दौड़ लगाई। इस दौरान जैनुल का उत्साह बढ़ाने के लिए तमाम चाहने वालों की भीड़ रही और विश्व रिकार्डधारी बनने पर उसे शील्ड देकर सम्मानित भी किया गया।

Spread the love

मुरादाबाद. उत्तर प्रदेश में मुरादाबाद के जैनुल आबेदीन उर्फ मुरादाबाद एक्सप्रेस ने गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराने के लिए लगातार बारह घंटे तक ट्रेडमिल पर दौड़ लगाई। इस दौरान जैनुल का उत्साह बढ़ाने के लिए तमाम चाहने वालों की भीड़ रही और विश्व रिकार्डधारी बनने पर उसे शील्ड देकर सम्मानित भी किया गया।

दरअसल गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में ट्रेडमिल पर दौड़ने का विश्व रिकार्ड 65 किमी का था। देश के विभिन्न शहरों में लंबी दौड़ लगाने वाले जैनुल उर्फ मुरादाबाद एक्सप्रेस ने इसे ध्वस्त करने के लिए पीलाकोठी पर मैथोडिस्ट चर्च के सामने क्रिसमस के मौके पर सुबह नौ बजे से अपनी दौड़ शुरू की थी। उसने 12 घंटे दौड़ने का लक्ष्य रखा था जिसे जैनुल ने हासिल भी कर लिया। हालांकि जैनुल ने 65 किमी दौड़ का रिकार्ड रात 8.38 बजे कर दिया था। जैनुल ने अपनी दौड़ जारी रखी और 8.52 पर 66 किमी तथा 8.59 बजे 66.6 किमी का रिकार्ड बना दिया।

पीतल पर दस्तकारी और हस्तकला के लिए पूरी दुनिया में मशहूर मुरादाबाद को अब जैनुल के नाम से नई पहचान मिली है। जैनुल आबेदीन ने ट्रेडमिल पर दौड़ की व्यवस्था पीली कोठी स्थित मैथोडिस्ट चर्च के पास की गई थी। सुबह 9:00 बजे से रात तक दौड़ने वाले जैनुल का हौसला बढ़ाने के लिए शहर के समाजसेवी, नेता और धर्म गुरुओं ने भी मौके पर आकर जनुल का उत्साहवर्धन किया। जैनुल को रिकार्ड बनाता देखने के लिए प्रशंसक और खेल प्रेमी भी जुटे रहे। विश्व रिकार्ड टूटने और नया रिकार्ड बनाने पर पीली कोठी पर जश्न पर माहौल बन गया। लोगों ने ताली बजाकर जैनुल का स्वागत किया। इस दौरान शहर के प्रसिद्ध समाजसेवियों ने शील्ड देकर जैनुल का सम्मान किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button