Weather Update: फिर बदलेगा मौसम, केदारनाथ समेत चारों धामों में जारी हुआ येलो अलर्ट

उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में अगले कुछ दिन तक मौसम खराब रहेगा। दरअसल चारधाम समेत अन्य इलाकों में बारिश की संभावना जताई...

देहरादून।  उत्तराखंड के पर्वतीय इलाकों में अगले कुछ दिन तक मौसम खराब रहेगा। दरअसल चारधाम समेत अन्य इलाकों में बारिश की संभावना जताई जा रही है। आईएमडी कि अनुसार 18 और 21 मई को भारी बारिश को लेकर येलो अलर्ट भी जारी किया गया है। पूर्वानुमान है कि 18 मई को उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, चमोली, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं गर्जन के साथ आकाशीय बिजली भी चमक सकती है। साथ ही बारिश की तीव्र बौछार भी पड़ने के आसार हैं।

RAIN

मौसम विभाग का कहना है कि 30 से 40 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं भीं चल सकती हैं। 21 मई को राज्य में कहीं-कहीं ओलावृष्टि भी होने की आशंका जताई जा रही है। वहीं बारिश के साथ 50 से 60 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं भी चलेंगी। इसे लेकर राज्य में येलो अलर्ट जारी किया गया है। इसके अतिरिक्त 19 मई को भी पर्वतीय जिलों में हल्की बारिश हो सकती है।

मैदानी इलाकों में मौसम शुष्क रहेगा लेकिन 20 मई को पर्वतीय और मैदानी इलाकों में कहीं-कहीं गर्जन के साथ हल्की बारिश होगी। दून में भी बुधवार को आसमान में आंशिक बादल छाए रहेंगे और कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। चारधाम मार्ग की बात करें तो रुद्रप्रयाग से जोशीमठ, बदरीनाथ और हेमकुंड के बीच, रुद्रप्रयाग से केदारनाथ, टिहरी से उत्तरकाशी के बीच, गंगोत्री और यमुनोत्री मार्ग पर भी हल्की से मध्यम स्तर की बारिश  हो सकती है।

बता दें कि केदारनाथ पैदल मार्ग पर गौरीकुंड घोड़ा पड़ाव के पास पहाड़ी से मलबा और बोल्डर  गिरने की वजह से मार्ग चार घंटे तक बाधित रहा। लोक निर्माण विभाग गुप्तकाशी, एनडीआरएफ और डीडीआरएफ की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद रास्ता खोला।  इसके बाद 10,800 यात्री केदारनाथ इस मार्ग से भेजे गए। वहीं दस हजार यात्रियों को गौरीकुंड और सोनप्रयाग में रोका गया। इन्हें आज भेजा जाएगा।

वहीं पंचपुलिया के पास सड़क चौड़ीकरण के दौरान पहाड़ी से बोल्डर गिरने से बदरीनाथ हाईवे दो घंटे तक बंद रहा जिससे सड़क के दोनों तरफ करीब पांच किमी से लंबा जाम लग गया। बोल्डर और मलबा हटाने के लिए सिर्फ एक छोटी मशीन लगाई गई थी जिससे रास्ता खुलने में करीब दो घंटे का समय लग गए।

Related Articles

Back to top button