Weather Update: पहाड़ों पर भी नहीं मिल रहा चैन, रिकॉर्ड तोड़ रहा है पारा, बढ़ सकता है संकट

ग्लोबल वार्मिंग का असर कहें या क्लाइमेट चेंज जो भी हो देश भर के मैदानी इलाकों में पड़ रही बेहिसाब गर्मी का असर अब...

पिथौरागढ़। ग्लोबल वार्मिंग का असर कहें या क्लाइमेट चेंज जो भी हो देश भर के मैदानी इलाकों में पड़ रही बेहिसाब गर्मी का असर अब पहाड़ों पर भी देखने को मिल रहा है। यहां तेजी से बढ़ता तापमान रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड तोड़ रहा है। आलम ये है कि उत्तराखंड के कई इलाकों में इस साल न्यूनतम तापमान पिछले साल की तुलना में 7 डिग्री अधिक बढ़ गया है।

HEAT

आमतौर पर गर्मी के सीजन में मैदान की झुलसाती गर्मी से राहत पाने के लिए लोग पहाड़ी इलाकों में आते हैं लेकिन इस बार पहाड़ का मौसम एकदम से बदल गया है। पहाड़ों में जून का महीना शुरू होने के साथ ही पारा तेजी से चढ़ रहा है। इस साल पहाड़ पर तेजी से बढ़ रहे पारे ने पिछले सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर डाले हैं। पिछले साल जहां मई में पहाड़ों पर अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री दर्ज किया गया था। वहीं इस साल बढ़कर 32.3 ‌डिग्री तक पहुंच गया है जबकि जून के पहले हफ्ते में ही अधिकतम तापमान में 3 डिग्री का इजाफा हो चुका है।

पहाड़ों पर सबसे तेजी से न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी हो रही है। पिछले साल मई में न्यूनतम तापमान 11.6 डिग्री था, जो इस बार 12.3 डिग्री के स्तर पर पहुंच गया है जबकि जून के पहले हफ्ते में ही न्यूनतम तापमान बीते साल के मुकाबले 7 डिग्री बढ़ा है। नैनीताल, मुक्तेश्वर, मसूरी, पिथौरागढ़ और अल्मोड़ा जैसे इलाकों के तापमान में सामान्य से 6 डिग्री तक का इजाफा देखा जा रहा है।

Related Articles

Back to top button