यूपी चुनाव 2022: 10 जिलों की 57 सीटों पर मतदान कल, आज शाम से बंद हो जायेंगा चुनाव का प्रचार

यूपी में विधानसभा चुनाव 2022 (assembly election 2022) के छठे चरण के मतदान कल होंगे।  आज शाम से छठे चरण का चुनाव  प्रचार थम जायेगा। आपको बता दे, सभी पार्टी के कार्यकर्त्ता जोरशोर से तैयारी में लगे है। छठे चरण में 10 जिलों की 57 सीटों के लिए तीन मार्च को मतदान होगा। जिसमे ये जिले शामिल है, आंबेडकर नगर, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीर नगर, महाराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया व बलिया की विधान सभा हैं। 

यूपी में विधानसभा चुनाव 2022 (assembly election 2022) के छठे चरण के मतदान कल होंगे।  आज शाम से छठे चरण का चुनाव  प्रचार थम जायेगा। आपको बता दे, सभी पार्टी के कार्यकर्त्ता जोरशोर से तैयारी में लगे है। छठे चरण में 10 जिलों की 57 सीटों के लिए तीन मार्च को मतदान होगा। जिसमे ये जिले शामिल है, आंबेडकर नगर, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, बस्ती, संतकबीर नगर, महाराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया व बलिया की विधान सभा हैं।

पोलिंग बूथ पर मतदाताओं को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसकी समुचित व्यवस्था कराने के लिए प्रशासन को सख्नित आदेश दिए हैं। चुनाव अब ढलान की ओर है। छठवें चरण में तो नाक की लड़ाई नजर आ रही है। चूंकि, भाजपा यह चुनाव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के चेहरे पर लड़ रही है और वह गोरखपुर शहर सीट से प्रत्याशी हैं, इसलिए पूरी पार्टी की प्रतिष्ठा इससे जुड़ गई है। इसी तरह नेता प्रतिपक्ष और सपा के दिग्गज रामगोविंद चौधरी के अलावा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और बसपा प्रदेश अध्यक्ष उमाशंकर सिंह की सीट पर भी इसी चरण में मतदान होना है। सभी की नजर फाजिलनगर पर भी टिकी है, क्योंकि योगी सरकार में मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य भाजपा को मिट्टी में मिलाने की हुंकार के साथ इस बार सपा प्रत्याशी के रूप में ताल ठोंक रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ रहे हैं। वह गोरखपुर शहर सीट से भाजपा के प्रत्याशी हैं। भाजपा चाहती है कि योगी की न सिर्फ जीत हो, बल्कि सर्वाधिक मतों के अंतर से विजय मिले। सपा ने उनके सामने सुभावती शुक्ला को प्रत्याशी बनाया है। सपा की रणनीति सवर्ण वोट में हिस्सेदारी के साथ मुस्लिम-यादव गठजोड़ की ताकत से लड़ने की थी, लेकिन बसपा से ख्वाजा शम्सुद्दीन के उतर जाने से मुस्लिम मतों में सेंध यूं ही लगती दिख रही है।

बलिया की बांसडीह सीट से नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी सपा प्रत्याशी हैं। आठ बार विधायक चुने जा चुके दिग्गज रामगोविंद की राह में रोड़ा अटकाने के लिए भाजपा ने केतकी सिंह को उतार दिया है

इटवा विधानसभा सीट से योगी सरकार के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चंद्र द्विवेदी मैदान में हैं तो उनसे मुकाबले में सपा के कद्दावर नेता और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पांडेय खड़े हैं।

कांग्रेस के सबसे बड़े चेहरे के रूप में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ही मैदान में हैं। वह कुशीनगर की तमकुहीराज सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके लिए चुनौती यह बढ़ गई है

भाजपा की प्रतिष्ठा बलिया में अड़ी है। यहां सीटों में फेरबदल कर पार्टी ने प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह को तो बलिया से प्रत्याशी बना दिया और मौजूदा विधायक व राज्यमंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला को नई सीट बैरिया से उतार दिया।

 

Related Articles

Back to top button