दर्दनाक हादसा: इस मंदिर में रथयात्रा के दौरान करंट लगने से बच्चों समेत 11 की मौत, PM-CM ने जताया दुःख

तमिलनाडु के तंजावुर से एक दिल दहला देने वाला हादसा हुआ है। यहां एक मंदिर में उत्सव के दौरान करंट लगने से 11 लोग काल के गाल में समा गए...

चेन्नई। तमिलनाडु के तंजावुर से एक दिल दहला देने वाला हादसा हुआ है। यहां एक मंदिर में उत्सव के दौरान करंट लगने से 11 लोग काल के गाल में समा गए। पुलिस ने बताया कि ये घटना मंदिर से रथ यात्रा निकलते समय घटी। हादसे में कई लोगों कि घायल होने की भी खबर है।

Electrocution

तंजावुर पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक ये हादसा कालिमेदू में अप्पार मंदिर में हुआ। बताया जा रहा है कि मंदिर से रथयात्रा निकलने के बाद जब इसके मुड़ने की बारी आई तो ऊपर बिछे तारों के जाल की वजह से रथ को आगे नहीं जा पा रहा था। ऐसे में उसे पीछे किया गया तभी वह हाई-टेंशन लाइन के संपर्क में आ गए और पूरे रथ पर करंट फैल गया।

घटना में कुछ बच्चों की भी जान जाने की बात सामने आई है। इस हादसे में तीन लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए है। उन्हें तंजावुर के ही मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया है। सेंट्रल जोन के आईजी वी बालाकृष्णन और तंजावुर की एसपी रवली प्रिया घायलों का हाल चाल जानने के लिए अस्पताल पहुंचे। हादसे की जो तस्वीरें सामने आ रही है उनमें रथ को पूरी तरह से जलते देखा जा सकता है।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने घटना के जांच के आदेश दे दिए हैं। साथ ही हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तंजावुर पर दुःख जताया है और जान गंवाने वालों के परिजनों के लिए दो लाख रुपये और घायलों के लिए 50 हजार रुपये देने की घोषणा की है। यह मुआवजा प्रधानमंत्री राहत कोष से दिया जाएगा।

Related Articles

Back to top button