पति को अस्पताल पहुंचाने के लिए नहीं मिली थी गाड़ी, अब महिला ने पेंशन से खरीदी Ambulance

राजस्थान के फतेहपुर शेखावटी इलाके में एक महिला ने पेंशन और बचत के रुपयों से 10 लाख की एंबुलेंस (Ambulance) खरीद कर गांव वालों को समर्पित कर दी है।

राजस्थान। राजस्थान के फतेहपुर शेखावटी इलाके में एक महिला ने पेंशन और बचत के रुपयों से 10 लाख की एंबुलेंस (Ambulance) खरीद कर गांव वालों को समर्पित कर दी है। बताया जाता है कि करीब 4 साल पहले नीमकाथाना की रहने वाली धर्मा देवी के पति रिटायर्ड सुबेदार की दिल का दौरा पड़ा था। उस वक्त एंबुलेंस न मिलने कि वजह से उन्हें समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका जिससे उनकी मौत हो गई थी।

Ambulance

इस घटना का धर्मा देवी पर ऐसा असर पड़ा कि उन्होंने तभी से पैसे जोड़ने शुरू कर दिए और अब 10 लाख रुपए से एंबुलेंस (Ambulance) खरीद कर गांव में स्थित अस्पताल को सौंप दी है। उनका कहना है कि एंबुलेंस ना मिलने से किसी के साथ अनहोनी नहीं होनी चाहिए। इस एंबुलेंस से गांवड़ी सहित आस पास के गांव के मरीजों को नीमकाथाना अस्पताल तक ले जाया जा सकेगा।

धर्मा देवी के बेटे और सरपंच शेरसिंह तंवर का कहना है कि उनके पिता रावत सिंह तंवर को चार साल पहले हार्ट अटैक आया था लेकिन रात होने कि वजह से उन्हें एंबुलेंस (Ambulance) या गाड़ी नहीं मिल सकीय थी जिसकी वजह से उन्हें अस्पताल पहुंचाने में देरी हो गई और हम उन्हें बचा नहीं सके थे तभी से मां धर्मा देवी और हम भाईयों ने संकल्प लिया था कि गांव के लिए एंबुलेंस खरीदकर देंगे।

बता दें कि गांवड़ी गांव में कोई बड़ा अस्पताल नहीं है। ऐसे में गंभीर हालत में मरीज को नीमकाथाना या फिरजयपुर ले जाना पड़ता है। पहाड़ी इलाका होने से नीमकाथाना से एंबुलेंस (Ambulance) आने में भी कैफ समय लगता है लेकिन अब धर्मा देवी द्वारा अस्पताल को एंबुलेंस सौपने से यहां के लोगों को आसानी से अस्पताल पहुंचाया जा सकेगा।

एंबुलेंस (Ambulance) संचालन का पूरा खर्चा भी धर्मा देवी देंगी। जैसे कि डीजल, ड्राइवर की सैलेरी, मरम्मत आदि। मरीजों से एंबुलेंस इस्तेमाल करने वाले मरीजों से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। एंबुलेंस बुलाने के लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जाएगा। इस एंबुलेंस में इसमें वेंटिलेटर, ऑक्सीजन सिलेंडर जैसे जरूरी उपकरण लगे हैं।

Child abuse : 5 साल की बच्ची के साथ पिता ही करता था गलत हरकत, अब कोर्ट ने सुनाई ये सख्त सजा

Related Articles

Back to top button