Google से Ministry of Education को पता चला है कि इतने फीसदी शिक्षकों ने ले ली है कोरोना वैक्सीन

Spread the love

80 फीसदी शिक्षकों ने कोरोना की वैक्सीन ले ली है- Google

 देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामलों के बीच लगभग सभी राज्‍यों ने स्‍कूल (School) और कॉलेज (College) खोल दिए हैं. स्‍कूल खुलने के साथ ही कई राज्‍यों में बच्‍चों के कोरोना संक्रमित होने की खबरें भी सामने आई हैं. यही कारण है कि अब शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) ने ये पता लगाने की कोशिश की है कि देश में कितने शिक्षकों ने कोरोना वैक्‍सीन (Corona Vaccine) लगवाई है. बता दें कि शिक्षा मंत्रालय ने गूगल (Google) ट्रैकर की मदद से पता लगाया है कि देशभर में अब तक 80 फीसदी शिक्षकों और नॉन टीचिंग स्‍टॉफ कोरोना वैक्‍सीन की एक या दोनों डोज ली है.(Ministry of Education)

ज्‍यादातर अभिभावक अपने बच्‍चों को स्‍कूल भेजने को तैयार

देश को कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच जब से स्‍कूल खोले गए हैं तब से ही इस बात पर चर्चा हो रही है कि राज्‍य सरकारों का फैसला सही है या नहीं. स्‍कूल खुलने के बाद भी ज्‍यादातर अभिभावक अपने बच्‍चों को स्‍कूल भेजने को तैयार नहीं हैं. यही कारण है कि शिक्षा मंत्रालय ने अब सप्‍ताह में दो बार गूगल (Google) ट्रैकर से शिक्षकों और स्‍टाफ के टीकाकरण की जानकारी लेने की बात कही है. बता दें कि अब तक देश के 20 राज्‍यों ने स्‍कूल खोले हैं.

बता दें कि शिक्षा मंत्रालय से कहा था कि वह शिक्षकों और स्टाफ की जानकारी के साथ ही यह भी बताएं कि कितने शिक्षकों ने अब-तक कोरोना वैक्‍सीन ली है. राज्यों से ज़िला स्तर पर स्कूल स्टाफ के टीकाकरण को ट्रैक करने को कहा था. (Google)

शिक्षा मंत्रालय की ओर से जानकारी दी गई है कि राज्यों की कोशिश है कि सितंबर तक सभी शिक्षकों समेत सभी स्टाफ को कोरोना वैक्‍सीन की कम से कम एक डोज लगाई जाए और जिनको पहली डोज लग चुकी है उनके लिए दूसरी डोज की व्‍यवस्‍था की जाए. (Google)

 

Black Day: दो सितंबर 1994 की यादें आज भी बढ़ा देती है मसूरी वासियों को धड़कनें, पढ़ें इस खबर को, जाने इतिहास

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button