Suicide: पारिवारिक विवाद से आहत पूर्व दर्जा राज्यमंत्री ने गोली मारकर की आत्महत्या, लगे थे कई गंभीर आरोप

उत्तराखंड के पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री और मौजूदा रोडवेज कर्मचारी नेता ने घर के पास बने ओवरहेड टैंक पर चढ़कर पुलिस की मौजूदगी में...

हल्द्वानी। उत्तराखंड के पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री और मौजूदा रोडवेज कर्मचारी नेता ने घर के पास बने ओवरहेड टैंक पर चढ़कर पुलिस की मौजूदगी में गोली मारकर सुसाइड कर लिया। पुलिस का कहना है कि बहुगुणा पारिवारिक और बहु द्वारा लगाए ये गंभीर आरोपों से आहत थे। परिजनों ने भी उनके खिलाफ दर्ज मुकदमों को गलत बताया है।

Hem Rajendra Bahuguna suicide

घटना को लेकर मिली जानकारी के मुताबिक बनभूलपुरा थाना क्षेत्र स्थित भगत कॉलोनी में रहने वाले पूर्व दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री और रोडवेज में वरिष्ठ लिपिक के पद पर तैनात हेम राजेंद्र बहुगुणा बुधवार की दोपहर करीब एक बजे घर से कुछ दूरी पर बने ओवरहेड टैंक पर चढ़ गए। इस दौरान काफी देर तक लोग और पुलिसकर्मी उन्हें वहां से उतारने की कोशिश करते रहे लेकिन वे नहीं माने और कूदने की बात कहने लगे। सूचना पर पहुंचे बनभूलपुरा थाना एसओ नीरज भाकुनी ने काफी देर तक उन्हें समझाने की कोशिश लेकिन वह किसी की भी नहीं सुन रहे रहे।

हालाँकि बाद में एसओ ने उन्हें मना लिया। एसओ बनभूलपुरा ने बताया कि नीचे आने की बात पर जब उन्होंने माइक रखा। इसी दौरान बहुगुणा ने खुद को गोली मार ली। पुलिस उन्हें घायल अवस्था में अस्पताल लेकर पहुंची। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बता दें कि बहुगुणा 31 अक्तूबर को वह रिटायर होने वाले थे। घर में वे अपने बेटे, पत्नी और बहू के साथ रहते थे।

पुलिस का कहना है कि मृतक के परिजनों की तरफ से तहरीर मिलने पर मामले की जांच की आएगी और उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बताया जा रहा है कि एचआर बहुगुणा ने खुद को गोली मारने से कुछ देर पहले हल्द्वानी डिपो के एआरएम सुरेंद्र सिंह बिष्ट को फोन कर मामले की जानकारी दी थी। इस पर एआरएम ने तत्काल 112 को फोन कर सूचित कर दिया था।

पारिवारिक विवाद से थे आहत

पुलिस का कहना है कि एचआर बहुगुणा के घर में काफी समय से पारिवारिक विवाद चल रहा था और आये दिन कलह होती रहती थी। पुलिस सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि एचआर बहुगुणा से परिवार के ही एक सदस्य की ओर से करीब 40 लाख रुपये की अवैध मांग की थी जिससे वे काफी परेशान थे।

Related Articles

Back to top button