Story of success: सविता ने महज 15 दिन में नाप दिए एवरेस्ट और मकालू पर्वत, जानिए संघर्ष गाथा

उत्तरकाशी के लोंथरु गांव की रहने वाली पर्वतारोही सविता कंसवाल ने माउंट एवरेस्ट के बाद 15 दिन के भीतर ही माउंट मकालू पर...

उत्तरकाशी। उत्तरकाशी के लोंथरु गांव की रहने वाली पर्वतारोही सविता कंसवाल ने माउंट एवरेस्ट के बाद 15 दिन के भीतर ही माउंट मकालू पर सफल आरोहण कर नेशनल रिकॉर्ड बना लिया है। उनकी इस सफलता से क्षेत्र में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है।

Mountaineer savita kanswal

बताया जा रहा है कि पर्वतारोही सविता कंसवाल ने बीते 12 मई को विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट (8848.86 मीटर) फ़तेह किया। सविता के कदम यहीं नहीं रुके। इसके बाद उन्होंने माउंट मकालू (8463 मीटर) पर ध्वज फहराया। महज 15 दिन के भीतर दोनों पर्वतों पर आरोहण कर सविता ने नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।

चार बहनों में सबसे छोटी सविता (25) का जीवन बेहद संघर्षपूर्ण रहा है। सरकारी स्कूल से पढ़ीं सविता ने साल 2013 में नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (निम) उत्तरकाशी से पर्वतारोहण का बेसिक कोर्स किया। इसके बाद उन्होंने एडवांस और सर्च एंड रेस्क्यू कोर्स के साथ पर्वतारोहण प्रशिक्षक का भी कोर्स किया। बताया जाता है कि सविता नेहरू पर्वतारोहण संस्थान की एक कुशल प्रशिक्षक भी हैं।

उनकी इस सफलता पर निम के प्रधानाचार्य कर्नल अमित बिष्ट, पर्वतारोही विष्णु सेमवाल, माउंटेनियरिंग एसोसिएशन के अध्यक्ष जयेंद्र राणा, होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष शैलेंद्र मटूड़ा, अजय पुरी, शैलेंद्र नौटियाल, माधव जोशी आदि ने प्रसन्नता व्यक्त की है

ये चोटियों को कर चुकीं फतह

सविता इससे पहले त्रिशूल पर्वत (7120 मीटर), हनुमान टिब्बा(5930 मीटर), कोलाहाई (5400 मीटर), द्रौपदी का डांडा (5680 मीटर), तुलियान चोटी (5500 मीटर), दुनिया की चौथी सबसे ऊंची चोटी माउंट ल्होत्से (8516 मीटर)पहले ही फतेह कर चुकी है।

Related Articles

Back to top button