Sankashti Chaturthi 2021 का बन रहा है यह संयोग, ऐसे करें पूजा पूरी होगी मनोकामना

संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi 2021) के दिन चंद्रमा के दर्शन करना बेहद शुभ माना जाता है है। इस दिन चंद्र दर्शन का मुहूर्त रात्रि 08:30 से रात्रि 09:30 बजे तक है।

Spread the love

धर्म डेस्क. हिंदी पंचांग के अनुसार ये साल की अंतिम संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi 2021) है। आज पौष माह के कृष्ण पक्ष की तृतीय तिथि है। हालांकि आज प्रातः काल में पहले तृतिया तिथि रहेगी लेकिन शाम को 04 बजकर 53 मिनट से चतुर्थी तिथि लग जाएगी। गणेश पूजन शाम को करने का विधान है, इसलिए संकष्टी चतुर्थी का व्रत और पूजन आज, 22 दिसंबर को ही किया जाएगा। बुधवार का दिन गणेश पूजन के लिए विशेष फलदायी होता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस संकष्टी चतुर्थी पर पुष्य नक्षत्र का संयोग बन रहा है।

Sankashti Chaturthi 2021

आज पौष माह के कृष्ण पक्ष की तृतीय तिथि है। बता दे पौष माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi 2021) कहा जाता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi) पर पुष्य नक्षत्र का संयोग बन रहा है।

इस नक्षत्र के काल में कोई शुभ कार्य करना या पूजन करना विशेष फलदायी होता है। इस दिन पुष्य नक्षत्र दिन में 12 बजकर 45 मिनट तक रहेगा। इसके बाद अश्लेषा नक्षत्र लग रहा है। हालांकि गणेश पूजन के लिय सबसे शुभ मुहूर्त अमृत काल रात्रि में 8.15 से 9.15 तक है।

संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi 2021) के दिन चंद्रमा के दर्शन करना बेहद शुभ माना जाता है है। इस दिन चंद्र दर्शन का मुहूर्त रात्रि 08:30 से रात्रि 09:30 बजे तक है। संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi) के दिन चंद्र दर्शन करना लाभ कारी होता है।

‘तारक मेहता’ की इस एक्ट्रेस ने पहनी ऐसी ड्रेस, हुईं ट्रोल, फैंस ने लताड़ा

Rashifal Today: जानिए कैसा रहेगा आज आपका दिन, देखें अपनी राशि…

आगरा: दीक्षांत समारोह में 8 विद्यार्थियों को डीलिट और 45 विद्यार्थियों को पीएचडी की उपाधि

बैंको के नीजीकरण को लेकर BJP सांसद वरुण गांधी ने अपनी ही सरकार पर बोला हमला, कह दी ये बड़ी बात

UP: होटल के मैनेजर का इस हालत में मिला शव, परिजन बोले- मकान बेचने की मिल रही थी धमकी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button