Russia Ukraine War: यूक्रेन में फंसे भारतीयों की हुई देश वापसी, केंद्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी ने किया स्वागत

नई दिल्ली. यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को लेकर एक विशेष फ्लाइट देश की राजधानी दिल्ली के हवाई अड्डे पहुंची है। यह फ्लाइट हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट से आई है। एयरपोर्ट पर केंद्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी ने विमान से भारत पहुंचे लोगों का स्वागत किया है। वहीं भारतीय वायुसेना का पहला C-17 विमान 200 भारतीय नागरिकों को लेकर आज रात रोमानिया से वापस लौटेगा। जानकारी के मुताबिक क्रेमलिन के प्रवक्ता का कहना है कि रूसी प्रतिनिधिमंडल बुधवार शाम यूक्रेनी अधिकारियों के साथ युद्ध के बारे में बातचीत फिर से शुरू करने के लिए तैयार है।

नई दिल्ली. यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों को लेकर एक विशेष फ्लाइट देश की राजधानी दिल्ली के हवाई अड्डे पहुंची है। यह फ्लाइट हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट से आई है। एयरपोर्ट पर केंद्रीय मंत्री जी. किशन रेड्डी ने विमान से भारत पहुंचे लोगों का स्वागत किया है। वहीं भारतीय वायुसेना का पहला C-17 विमान 200 भारतीय नागरिकों को लेकर आज रात रोमानिया से वापस लौटेगा। जानकारी के मुताबिक क्रेमलिन के प्रवक्ता का कहना है कि रूसी प्रतिनिधिमंडल बुधवार शाम यूक्रेनी अधिकारियों के साथ युद्ध के बारे में बातचीत फिर से शुरू करने के लिए तैयार है।

स्लोवाकिया में छात्रों से मिले किरेन रिजिजू

रूस और यूक्रेन के बीच संघर्ष के दरमियान भारतीय छात्र यूक्रेन का बार्डर पार कर आज स्लोवाकिया के कोसिसे पहुंचे। यहां देश के केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने छात्रों से मुलाकात कर उनका हालचाल जाना। इस दौरान छात्रों ने कहा कि हम अपने देश लौटने के लिए उड़ान की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

यूक्रेन स्थित भारतीय दूतावास ने जारी की एडवाइजरी

यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने खार्किव में फंसे भारतीय नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी कर कहा है कि वो तत्काल यहां से निकल जाएं। एडवाइजरी में भारतीयों को निर्देश दिए गए हैं कि वो जल्द से जल्द पिसोचिन, बेजलुडोव्का और बाबे के लिए जल्द से जल्द प्रस्थान करें। साथ ही निर्देश हैं कि वो इन जगहों पर शाम के छह बजे तक (यूक्रेनी समय के अनुसार) किसी भी हाल में पहुंच जाएं।

यूक्रेन राहत कोष में एक महीने की वेतन देंगी ताइवानी राष्ट्रपति

ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग-वेन ने बुधवार को बताया कि वो स्वंय, उप राष्ट्रपति विलियम लाई और प्रीमियर सु त्सेंग-चांग यूक्रेन में मानवीय सहायता के लिए अपनी एक महीने का वेतन दान करेंगे। रूस के साथ युद्ध के बीच यूक्रेन को यूरोपीय देशों समेत विश्व के कई देशों से मानवीय सहायता प्राप्त हो रही है।

Related Articles

Back to top button