रुस ने पाकिस्तान में सरकार गिराने पर किया बड़ा खुलासा, बोला- इमरान खान को इस वजह से मिली सजा

इस्लामाबाद, 05 अप्रैल। पाकिस्तान में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच रूस की भी एंट्री हो चुकी है। रूस ने इमरान के आरोपों का समर्थन करते हुए कहा है कि अमेरिका पाकिस्तान की राजनीति में हस्तक्षेप कर रहा है। रूस ने कहा है कि अमेरिका इमरान को मास्को दौरा करने की सजा दे रहा है।

Russia and Pakistan

दरअसल पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने आरोप लगाया था कि वरिष्ठ अमेरिकी राजनयिक डोनाल्ड लू अविश्वास प्रस्ताव के जरिए उनकी सरकार को गिराने की ‘विदेशी साजिश’ में शामिल थे। इस लेकर रूस ने बयान दिया है। रूस ने कहा है कि पाकिस्तान के आंतरिक मामलों में अमेरिका ने “बेशर्मी से हस्तक्षेप करने का प्रयास” किया है। रूसी विदेश मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका ने “अवज्ञाकारी” इमरान खान को दंडित करने की मांग की है।

रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा कि रूस को पता चला है कि राष्ट्रपति डॉ आरिफ अल्वी ने प्रधानमंत्री की सलाह पर 3 अप्रैल को नेशनल असेंबली को भंग कर दिया। उन्होंने कहा, इस साल 23-24 फरवरी को इमरान की मास्को की कामकाजी यात्रा की घोषणा के तुरंत बाद, अमेरिकियों और उनके पश्चिमी सहयोगियों ने प्रधानमंत्री पर कठोर दबाव डालना शुरू कर दिया था, यात्रा को रद्द करने के लिए एक अल्टीमेटम दिया भी दिया था।”

अमेरिकी इस कारण इमरान को सजा दे रहा

रूसी विदेश मंत्रालय ने कहा, इसके बावजूद वे हमारे यहां आए, तब [लू] ने वाशिंगटन में पाकिस्तानी राजदूत को बुलाकर मांग की कि यात्रा तुरंत बाधित हो। उनकी (लू) मांग को भी खारिज कर दिया गया।” जखारोवा ने कहा, पाकिस्तानी मीडिया की खबरों के मुताबिक इसी साल 7 मार्च को पाकिस्तानी राजदूत असद मजीद के साथ बातचीत में, एक उच्च पदस्थ अमेरिकी अधिकारी (संभवतः लू) ने यूक्रेन की घटनाओं पर पाकिस्तानी नेतृत्व की संतुलित प्रतिक्रिया की तीखी निंदा की और स्पष्ट किया कि अमेरिका के साथ साझेदारी तभी संभव है, जब इमरान को सत्ता से हटा दिया जाए।” रूस ने कहा कि अब इसमें कोई संदेह नहीं है कि अमेरिकी इस कारण इमरान को सजा दे रहा है।

गौरतलब है कि नेशनल असेंबली के उपाध्यक्ष द्वारा विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को खारिज किए जाने के बाद यहां पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के नेताओं की बैठक को संबोधित करते हुए खान ने कहा था कि राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक के दौरान भी यह पाया गया था कि अविश्वास प्रस्ताव के जरिये देश की आंतरिक राजनीति में हस्तक्षेप का प्रयास किया गया।

उन्होंने आरोप लगाया था कि अमेरिकी विदेश विभाग में दक्षिण एशियाई मामलों को देखने वाले शीर्ष अमेरिकी राजनयिक डोनाल्ड उनकी सरकार गिराने की ‘विदेशी साजिश’ में शामिल थे। पाकिस्तान के विपक्षी दलों के नेताओं ने खान के आरोप को बेबुनियाद करार दिया जबकि अमेरिका ने आरोपों को खारिज किया।

Related Articles

Back to top button