राहत भरी खबर: दिल्ली में कोरोना पाबंदियों में दी गई ढील, 100 प्रतिशत क्षमता के साथ प्राइवेट दफ़्तर भी खोलने का लिया फैसला…

राजधानी दिल्ली में कोरोना की संक्रमण दर 4.73 प्रतिशत से घटकर 4.3 प्रतिशत हो गई है, इसलिए लगातार दो दिन से संक्रमण दर पांच प्रतिशत से कम है। एक दिन पहले कोरोना के 3,028 मामले आए थे। 24 घंटे में 3,895 मरीज ठीक हुए हैं। इस वजह से सक्रिय मरीजों की संख्या भी घटकर 14 हजार से कम हो गई है। वहीं, 24 घंटे में कोरोना से 13 मरीजों की मौत हो गई, जो 24 दिन के दौरान सबसे कम है।

राजधानी दिल्ली में कोरोना की संक्रमण दर 4.73 प्रतिशत से घटकर 4.3 प्रतिशत हो गई है, इसलिए लगातार दो दिन से संक्रमण दर पांच प्रतिशत से कम है। एक दिन पहले कोरोना के 3,028 मामले आए थे। 24 घंटे में 3,895 मरीज ठीक हुए हैं। इस वजह से सक्रिय मरीजों की संख्या भी घटकर 14 हजार से कम हो गई है। वहीं, 24 घंटे में कोरोना से 13 मरीजों की मौत हो गई, जो 24 दिन के दौरान सबसे कम है।

कोरोना की तीसरी लहर के कमजोर पड़ने के मद्देनजर दिल्ली में पाबंदियों में बड़ी ढील देने का फैसला लिया गया है। दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने शुक्रवार को एक अहम बैठक में दिल्ली में जिम, स्कूल, कालेज और कोचिंग संस्थान फिर से खोलने का फैसला किया है। हालांकि, नाइट कर्फ्यू अभी जारी रहेगा, लेकिन उसकी अवधि में एक घंटे की कमी की गई है। अब रात 10 बजे के बजाय 11 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा। इसके साथ 100 प्रतिशत क्षमता के साथ प्राइवेट दफ़्तर भी खोले जाएंगे। वहीं, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के स्कूल खोलने के फैसले को उचित ठहराया है।

डीडीएमए ने फैसला किया है कि दिल्ली में उच्च शिक्षा के संस्थान एसओपी के अधीन खुलेंगे और कोविड ​​उपयुक्त व्यवहार का सख्ती से पालन करना होगा। वहीं, कक्षा 9वीं-12वीं के स्कूल 7 फरवरी से फिर से चरणबद्ध तरीके से खुलेंगे। जिन शिक्षकों का टीकाकरण नहीं हुआ है, उन्हें अनुमति नहीं दी जाएगी। डीडीएमए ने दिल्ली में ऑफिसों में शत-प्रतिशत स्टाफ के साथ काम करने की अनुमति भी दे दी है। इसके साथ ही कारों में सिंगल ड्राइवरों को मास्क मैंडेट से छूट दी जाएगी।

बता दें कि पिछले सप्ताह हुई बैठक में वीकेंड कर्फ्यू खत्म करने पर भी फैसला हुआ था, इसके साथ ही सिनेमा हाल, बार और रेस्तरां भी 50 प्रतिशत उपस्थिति के खुल गए हैं।

Related Articles

Back to top button