Mokshada Ekadashi: मोक्षदा एकादशी के दिन विधि पूर्वक व्रत और पूजन करने से होती है मोक्ष की प्राप्ति

मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) सोमवार 13 दिसंबर को रात्रि 9 बजकर 32 मिनट पर शुरू होकर 14 दिसंबर को रात में 11 बजकर 35 मिनट पर समाप्त होगी। अतः साधक 14 दिसंबर को दिनभर भगवान श्रीहरि विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा-उपासना कर सकते हैं।

Spread the love

धर्म डेस्क. मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) मार्गशीर्ष महीने में शुक्ल पक्ष में मनाई जाती है। यह एकादशी मोक्ष की प्राप्ति के लिए मनाई जाती है। भगवान कृष्ण ने इस दिन महाभारत में अर्जुन को भगवद गीता का ज्ञान दिया था। विष्णु भगवान का विधि पूर्वक व्रत और पूजन करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसी दिन गीता जंयती भी मनाई जाती है। हिन्दू पंचांग के अनुसार इस बार मोक्षदा एकादशी 14 दिसंबर को मनाई जाएगी। मान्यता है कि मोक्षदा एकादशी के दिन पूजा-अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Mokshada Ekadashi

मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) का शुभ मुहूर्त

Mokshada Ekadashi सोमवार 13 दिसंबर को रात्रि 9 बजकर 32 मिनट पर शुरू होकर 14 दिसंबर को रात में 11 बजकर 35 मिनट पर समाप्त होगी। अतः साधक 14 दिसंबर को दिनभर भगवान श्रीहरि विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा-उपासना कर सकते हैं।

मोक्षदा एकादशी की व्रत कथा

प्राचीन काल में गोकुल में वैखानस नाम के राजा राज्य करते थे, एक रात उन्होंने सपने में देखा कि उनके पिता मृत्यु के बाद नरक की यातनाएं झेल रहे हैं। उन्हें अपने पिता की ऐसी दशा देख कर बड़ा दुख हुआ। सबेरे ही उन्होंने अपने राज पुरोहित को बुलाया और पिता की मुक्ति का मार्ग पूछा। (Mokshada Ekadashi)

राज पुरोहित ने कहा कि इस समस्या का निवारण पर्वत नाम के महात्मा ही कर सकते हैं, क्योकिं वो त्रिकालदर्शी हैं। राजा तत्काल पर्वत महात्मा के आश्रम गए और उनसे अपने पिता की मुक्ति का मार्ग पूछा, महात्मा पर्वत ने बताया कि उनके पिता ने अपने पूर्व जन्म में एक पाप किया था, जिसका पाप के कारण वो नर्क की यातनाएं भोग रहे हैं। (Mokshada Ekadashi)

Mokshada Ekadashi के पुण्य प्रभाव से ही आपके पिता को मुक्ति मिलेगी

नर्क की यातनाओं से मुक्ति के बारें में राजा ने महात्मा से पूछा, महात्मा बोले, मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी (Mokshada Ekadashi) के नाम से जाना जाता है। आप मोक्षदा एकादशी का विधि पूर्वक व्रत और पूजन करें। एकादशी के पुण्य प्रभाव से ही आपके पिता को मुक्ति मिलेगी। महात्मा के वचनों के अनुसार राजा ने मोक्षदा एकादशी का व्रत और पूजन किया। मोक्षदा व्रत और पूजन के पुण्य के प्रभाव से राजा के पिता को मुक्ति मिली। उनकी मुक्त आत्मा ने राजा को आशीर्वाद दिया।

2021 की Miss Universe हरनाज कौर संधू पर हुई बधाइयों की बरसात, प्रियंका चोपड़ा ने ट्वीट कर कही ये बड़ी बात

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button