Missing Trackers: ITBP ने बचाई 2 ट्रैकर्स की जान, 48 घंटे से थे लापता, जानें कहां फंसे हुए थे

14वीं बटालियन भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के जवानों ने पिथौरागढ़ से लापता हुए दो ट्रैकर्स को ढूढ़ लिया है। ये दोनों तरह से सुरक्षित है...

नई दिल्‍ली। 14वीं बटालियन भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) के जवानों ने पिथौरागढ़ से लापता हुए दो ट्रैकर्स को ढूढ़ लिया है। ये दोनों तरह से सुरक्षित है। उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से ताल्लुक रखने वाले ये दोनों युवक ट्रैकिंग के लिए खलिया टॉप की ओर गए हुए थे तभी मुनस्यारी के बिरथी फॉल के पास की एक कठिन ऊंचाई पर फंस गए। हालांकि इस दौरान इन दोनों युवक ने मदद के लिए अपने मोबाइल से किसी तरह एसओएस से संपर्क किया और हालात की जानकारी दी लेकिन इसके तुरंत बाद उनके मोबाइल की बैटरी ख़त्म हो गई थी जिससे दोबारा से उनसे संपर्क नहीं हो सका।

Tracking In Uttarakhand

मामले की जानकारी देते हुए आईटीबीपी के प्रवक्‍ता कमांडेंट विवेक पांडेयने बताया कि रविवार को उन्‍हें सूचना मिली थी कि 28 वर्षीय विशाल गंगवार और 30 वर्षीय संतोष कुमार ने मदद के लिए एसओएस कॉल की थी। इसके बाद से उनसे कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि सूचना मिलते ही आईटीबीपी ने ट्रैकर्स की तलाश के लिए दो टीमें गठित की। इसके बाद जवान ट्रैकर्स की ट्रैक पर निकले थे।

वह करीब सात किलोमीटर लंबा है और खलिया टॉप करीब 14,500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। उन्होंने कहा कि ये ट्रैक मार्ग घने जंगल से भरा हुआ है। लगभग 48 घंटों की जद्दोजहद के बाद आईपीबीपी के जवानों ने मंगलवार शाम को दोनों को खोज निकाला। ये दोनों ट्रैकर्स बिरथी फॉल क्षेत्र के पास मिले। ये स्थान सामान्य ट्रेकिंग मार्ग से थोड़ा हटके है।

उन्होंने कहा कि डिहाइड्रेशन की वजह से एक ट्रैकर की हालत काफी खराब थी। ये दोनों यहां 48 घंटे से अधिक समय तक फंसे रहे। इस दौरान उनके पास भोजन और पानी की भी कमी हो गई थी। आईटीबीपी की टीम ने उन्हें खाना और पीने का पानी मुहैया कराया और अब उनका रेस्क्यू किया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button