मेडिकल का कमाल: डॉक्टरों ने बुजुर्ग महिला को दिया जीवन दान, परिजन मान बैठे थे मृत

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट से उपचार के लिए जिला अस्पताल में लाई एक बुजुर्ग महिला को डॉक्टरों की टीम ने...

पिथौरागढ़। उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले के गंगोलीहाट से उपचार के लिए जिला अस्पताल में लाई एक बुजुर्ग महिला को डॉक्टरों की टीम ने कार्डियो पल्मोनरी रेसुसिटेशन (सीपीआर) देकर नया जीवन दिया है। बताया जा रहा है कि इस महिला कि सांसें थम जाने पर परिजनों ने उन्हें मृत मान लिया था और अपने रिश्तेदारोंको भी फोन करके उनके मृत होने की सूचना दे दी थी।

Doctors

बताया जा रहा है कि अस्पताल आने के बाद जब महिला की सांसें दोबारा से चलने लगीं तो परिजनों ने खुश होकर चिकित्सक और उनकी टीम की सराहना की। मिली जानकारी के अनुसार ग्राम चहज निवासी प्रकाश चंद्र जोशी शनिवार को अपनी पत्नी उषा जोशी के साथ मां बसंती देवी (75) को गंभीर हालत में 108 एंबुलेंस से जिला अस्पताल लेकर आए थे। महिला को पिछले 20 दिन से शरीर में सूजन और सांस लेने में प्रॉब्लम आ रही थी।

बताया जाता है कि जब डॉक्टर इमरजेंसी में महिला कि उपचार में लगे हुए थे तभी कुछ देर बाद उनकी महिला की सांसें एकदम से थम गईं। जब परिजन को इस बात का पता चला तो उन्होंने सबको को फोनकर मां के निधन की जानकारी दे दी और रोने लगे। इधर आपातकालीन कक्ष में ईएमओ डॉ. रोहित ग्रोवर, फार्मासिस्ट गोपाल सिंह बिष्ट, कक्ष सहायक कमल शर्मा सीपीआर प्रक्रिया देकर महिला को बचाने के प्रयास में जुटे हुए थे।

काफी कोशिश के बाद बुजुर्ग महिला की सांसें वापस लौटा आई। इसके बाद उन्हें वार्ड में भर्ती किया गया, जहां पर अब उनका किया रहा है। महिला के बेटे प्रकाश चंद्र जोशी ने बताया कि सीपीआर देकर टीम ने उनकी मां को नया जीवन देकर उनकी खुशी लौटाई है।

Related Articles

Back to top button