Kanwar Yatra: ये दस्ता भी संभालेगा कांवड़ मेले में मोर्चा, संवेदनशील स्थानों पर होगी तैनाती

कांवड़ मेले की सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद रखने के मकसद से आतंकरोधी गुलदार दस्ते की भी तैनाती की जाएगी। हरिद्वार में...

देहरादून। कांवड़ मेले की सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद रखने के मकसद से आतंकरोधी गुलदार दस्ते की भी तैनाती की जाएगी। हरिद्वार में हरकी पैड़ी और आसपास के संवेदनशील स्थानों पर दस्ते के कमांडो तैनात किये जायेंगे। बता दें कि उत्तराखंड पुलिस का यह दस्ता पिछले दिनों मानेसर स्थित एनसजी के ट्रेनिंग सेंटर में भी अपनी क्षमताओं का लोहा मनवा चुका है। वहां इस दस्ते ने आतंकरोधी प्रदर्शन में पहले स्थान पर कब्जा किया था।

Kanwar mela

बता दें कि हरिद्वार का कांवड़ मेला सुरक्षा के लिहाज से बेहद संवेदनशील माना जाता है। बीते कुछ वर्षों से यहां आने वाले कांवड़ियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इस साल इनकी संख्या तीन करोड़ से अधिक रहने के कयास लगाए जा रहे हैं। ऐसे में पुलिस महकमा किसी भी प्रकार का खतरा मोल लेने की गलती नहीं कर रहा है।

यहां भीड़ को कंट्रोल करने के लिए घुड़सवार दल को तैनात किया जाएगा। साथ ही यातायात प्रबंधन के लिए डायवर्जन प्लान तैयार कर लिया गया है। वहीं हरिद्वार और इसके आसपास के महत्वपूर्ण स्थानों पर मिलने वाली आतंकी घटनाओं की धमकी को देखते हुए कांवड़ मेले में महत्वपूर्ण स्थानों पर एटीएस कमांडो यानी गुलदार दस्ते की भी तैनाती की जाएगी।

22 महिला कमांडो को दिया गया था प्रशिक्षण

गौरतलब है कि उत्तराखंड देश का चौथा ऐसा राज्य है, जहां महिला कमांडो की फोर्स भी गठित की गई है। पिछले साल गुलदार दस्ते में शामिल 22 महिला पुलिसकर्मियों को कड़ा प्रशिक्षण दिया गया था। इन महिला कमांडो ने भी पुलिस लाइन में प्रदर्शन के दौरान लोगों को दांतों तले अंगुलियां दबाने को मजबूर कर दिया था।

उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार का कहना है कि कांवड़ मेले में सुरक्षा की किसी भी तरह की चूक बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों सभी पड़ोसी राज्यों के अधिकारियों के साथ सुरक्षा व्यवस्था पर चर्चा की गई थी। इस बार भी मेले में आतंकरोधी दस्ते के कमांडो तैनात होंगे। साथ ही भीड़ नियंत्रण के लिए घुड़सवार बल तैनात किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button