Jammu Kashmir: शहबाज के कुर्सी पर बैठते ही जम्मू में बढ़ी आतंकी घटनाएं, जानें क्या है कनेक्शन

जम्मू कश्मीर में पिछले 10 दिनों से आतंक घटनाएं बढ़ गई है। दो दिनों में जम्मू कश्मीर के बारामूला और सुंजवां में दो बड़ी आतंकी घटनाओं को...

जम्मू कश्मीर। जम्मू कश्मीर में पिछले 10 दिनों से आतंक घटनाएं बढ़ गई है। दो दिनों में जम्मू कश्मीर के बारामूला और सुंजवां में दो बड़ी आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया गया। वहीं शुक्रवार की शाम को नौगाम में आतंकियों ने दो मजदूरों को गोली मार दी।

Jammu Kashmir

जम्मू-कश्मीर में इन दिनों हो रही ताबड़तोड़ आतंकी घटनाएं इस बात की तरफ इशारा करती हैं कि घाटी में आतंकी बुरी तरह बौखला हुए हैं। बताया जा रहा है कि इन आतंकी घटनाओं का सीधा कनेक्शन पाकिस्तान में हुए सियासी बदलाव है। बता दें कि पाकिस्तान में 10 दिन पहले ही सरकार बदली और शहबाज शरीफ के पीएम पद कुर्सी संभाली। इसके तुरंत बाद से ही घाटी में आतंकी वारदातों की बाढ़ सी आ गई। हालांकि सुरक्षाबलों के सामने आतंकियों को मुंह की खानी पड़ रही है और उन्हें मुंहतोड़ जवाब मिल रहा है।

गौरतलब है कि आतंकियों ने बारामूला में एक घर को अपना ठिकाना बनाया था और इसी घर से वे लगातार फायरिंग कर रहे थे। घर में छिपे आतंकियों की टोली में एक नाबालिग आतंकी भी था। हालांकि इस नाबालिग के पिता ने रो-रोकर अपने बेटे को आतंक की राह पर ले जाने के लिए आतंकियों को कोसा था। बाद में सुरक्षाबलों ने उस घर को ही उड़ा दिया जिसमें छिपकर आतंकी लगातार फायरिंग कर रहे थे।

बारामूला में अभी बंदूकें थमी नहीं थी कि जम्मू के सुंजवां आर्मी कैंप के पास आतंकियों ने CISF की एक बस को निशाना बनाया। हालांकि सुरक्षाबलों की सतर्कता की वजह से दोनों ही स्थानों पर आतंकियों के मंसूबों पर पानी फिर गया। शहबाज शरीफ के पाकिस्तान में सत्ता संभालने के बाद घाटी में हुई आतंकी वारदातें एक नजर में…

घाटी में आतंकी घटनाएं

11 अप्रैल- कुलगाम, अनंतनाग, बारामूला में आतंकी वारदात
13 अप्रैल- कुलगाम और डोडा में हमला
14 अप्रैल- शोपियां में आतंकी हमला
15 अप्रैल- बारामूला और राजौरी में वारदात
16 अप्रैल- अनंतनाग में आतंकी हमला
18 अप्रैल- पुलवामा और कुपवाड़ा में वारदात
19 अप्रैल- कुपवाड़ा में हथियार बरामद
21 अप्रैल- बारामूला में हमला
22 अप्रैल- जम्मू के सुंजवां में हमला

11 अप्रैल से आतंकी घटनाएं

आतंकी वारदात – 15
कुल आतंकी ढेर – 12
नागरिकों की मौत – 2
जवान शहीद – 03

कुल मिलाकर ये आंकड़े इस बात की तरफ संकेत करते हैं कि शहबाज शरीफ के प्रधानमंत्री बनाते ही पाकिस्तान ने घाटी में आतंक का खेल नए सिरे से शुरू कर दिया है। हालांकि भारतीय सुरक्षाबल के जवान काफी सतर्क हैं और आतंकियों की एक-एक चाल को नाकाम कर रह हैं।

Related Articles

Back to top button