Indian Economy: कोरोना की तीसरी लहर नहीं आयी तो पटरी पर होगी अर्थव्यवस्था

Spread the love

नई दिल्ली। हाल ही में, केंद्र सरकार द्वारा जारी आर्थिक आंकड़ों (Indian Economy) में, अप्रैल की पहली तिमाही में देश की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 20.1% हो गई है, जो चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही है। आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने यह बात कही है। उन्होंने कहा कि, हमने अप्रैल-जून सकल घरेलू उत्पाद में 20.1% की वृद्धि देखी। यह एक बहुत मजबूत स्थिति है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह 2020 में लॉकडाउन की वजह से निचले आधार पर आधारित है।

उन्होंने कहा, अगर तीसरी लहर नहीं आती है, तो हम अक्टूबर-दिसंबर तिमाही तक प्री-कोविद स्तर तक पहुंचने में सक्षम होंगे। हम अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को बहुत जल्दी विस्तार करने की स्थिति में हैं। यहां तक ​​कि यदि हम तीसरी लहर की पकड़ में आते हैं, तो हमारे पास इससे निपटने के लिए वित्तीय संसाधन भी हैं। हमारे राजकोषीय घाटे को बहुत नियंत्रित किया जाता है।

संजीव सान्याल ने कहा कि शेयर बाजार की नई ऊंचाइयों तक पहुंचने के लिए, एक मजबूत पूंजी बाजार है। पैसे का प्रभाव भी है। दोनों का मतलब है कि हमारी अर्थव्यवस्था (Indian Economy) बहुत तेजी से चलने वाली स्थिति में है। इसका यह भी अर्थ है कि दोनों घरेलू और विदेशी निवेशकों ने वर्षों से किए गए मुख्य सुधारों की सराहना करना शुरू कर दिया है।

सरकार की राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन का बचाव करते हुए संजीव सान्याल ने कहा कि सरकार की बड़ी संख्या में संपत्ति है। यदि संभव हो, तो संसाधनों को मुद्रीकृत और बढ़ाएं ताकि हम नए बुनियादी ढांचे में निवेश कर सकें या कमजोर आर्थिक या समाज को सहायता प्रदान कर सकें।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button