High Court ने मानी Underworld Don की सभी मांगें, जेल में मिली खुद खाना बनाकर खाने की इजाजत

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने चमोली की जेल में सजा काट रहे अंडरवर्ल्ड डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी की सुरक्षा और स्वास्थ्य को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते...

नैनीताल। उत्तराखंड हाई कोर्ट ने चमोली की जेल में सजा काट रहे अंडरवर्ल्ड डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी की सुरक्षा और स्वास्थ्य को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सरकार को मेडिकल कालेज हल्द्वानी में उसका इलाज कराने का आदेश दिया है। ये आदेश उत्तराखण्ड सरकार को संजय मिश्रा की एकलपीठ ने दिया। साथ ही ये भी कहा कि जब वह पेशी के लिए अन्य राज्यों में जाएं तो उसे उत्तराखंड की पुलिस ही ले जाइये और ले आये। कोर्ट ने कहा कि उन्हें जेल में अपना खाना खुद बनाने की इजाजत भी दे दी।

बताया जा रहा है कि पौड़ी जेल में बंद अंडरवर्ड डॉन प्रकाश पांडे उर्फ पीपी ने उत्तराखंड हाई कोर्ट में एक याचिका दायर कर कहा था कि वे कई महीनों से ह्रदय रोग से पीड़ित हैं। याचिका में ये भी कहा गया है कि जब वे जेल से अस्पताल जाते हैं तो पुलिस उन्हें किसी भी अस्पताल में ले जाती है, जिससे उनकी बीमारी ठीक नहीं होती है और वह बढ़ती झा रही है। याचिका में मांग की गई है कि उनका इलाज राजकीय मेडिकल कालेज में कराया जाये।

हाईकोर्ट ने मानी सभी मांगें

अंडरवर्ड डॉन की तरफ से हाईकोर्ट में दायर याचिका में कहा गया कि उसके खिलाफ अन्य कई राज्यो में भी आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। ऐसे में जब वह पेशी के लिए अन्य राज्यों में जाते हैं तो उत्तराखंड की पुलिस उस राज्य के बॉर्डर तक ही उन्हें ले जाती है। इसके बाद उसे उस राज्य की पुलिस को सौंप दिया जाता है। याचिका में कोर्ट से प्रार्थना की गई कि उन्हें किसी भी राज्य में पेशी के लिए उत्तराखंड की पुलिस ही ले जाये और ले आये। उन्हें अन्य राज्यों की पुलिस को नहीं सौंपा जाए क्योंकि उनकी जान को खतरा है।

खाने में जहर देने की बात कही थी

उत्तराखण्ड हाईकोर्ट में दायर याचिका में डॉन प्रेम प्रकाश ने यह भी प्रार्थना की है कि उन्हें जेल में खाना स्वयं बनाने की अनुमति दी क्योंकि दो बार उन्हें जहर युक्त खाना दिया गया जिसे खाने से बिल्ली की मौत भी हो गयी थी। इस पर न्यायालय ने उसे खाना बनाने देने की भी इजाजत दे दी। हाईकोर्ट ने प्रकाश पांडेय द्वारा दायर याचिका की सभी मांगों को मान लिया है।

Related Articles

Back to top button