Earthquake: भूकंप के लिहाज से बेहद संवेदनशील है उत्तराखंड, भू-वैज्ञानिकों ने तैयारियों पर उठाए सवाल

अफगानिस्तान में बीते बुधवार को आए विनाशकारी भूकंप को दुनिया के अन्य इलाकों में किसी बड़े भूंकप की चेतावनी समझा जाना चाहिए....

देहरादून। अफगानिस्तान में बीते बुधवार को आए विनाशकारी भूकंप को दुनिया के अन्य इलाकों में किसी बड़े भूंकप की चेतावनी समझा जाना चाहिए। वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान देहरादून के वैज्ञानिकों का कहना है कि हिंदुकुश पर्वत से नार्थ ईस्ट तक का हिमालयी क्षेत्र भूकंप के प्रति बेहद संवेदनशील है, लेकिन भूंकप जैसे खतरों से निपटने के लिए इन राज्यों में कारगर नीतियां नहीं बनाई गई है जो बेहद चिंताजनक है।

Earthquake

वैज्ञानिकों की मानें तो पर्वतीय क्षेत्रों में भूकंपरोधी तकनीक के बिना बन रहे बहुमंजिला भवन खतरे को कई गुना बढ़ा सकते हैं। बता दें कि हिमालयी राज्यों और उत्तराखंड जैसे संवेदनशील राज्य में भूकंप को लेकर वैज्ञानिक लगातार रिसर्च कर रहे हैं। हालांकि तमाम कोशिशों के बाद भी वैज्ञानिक को भूंकपों का पूर्वानुमान लगाने में कामयाबी नहीं मिल रही है। वाडिया संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. नरेश कुमार ने बताया कि, जमीन के नीचे लगातार हलचल चलती रहती है और उत्तराखंड भी इस हलचल के लिहाज से बेहद संवेदनशील जोन है।

उन्होंने बताया कि अफगानिस्तान में जून माह में ही भूंकप के कई छोटे झटके आ चुके हैं। इसके अतिरिक्तइसी महीने में अभी तक जम्मू कश्मीर, लेह लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, असम, पिथौरागढ़, ईस्ट खासी हिल्स मेघालय से लेकर उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले तक में भूंकप के दर्जनों छोटे-बड़े झटके आ चुके हैं। छोटे-छोटे भूकंप भूगर्भ की असीम ऊष्मा को समय-समय पर रिलीज तो कर रहे हैं। साथ ही ये एक बड़े भूकंप की चेतावनी भी दे रहे हैं।

Related Articles

Back to top button