Mahakal की शाही सवारी में श्रद्धालुओं का उमड़ा सैलाब, आस्था का दिखाई दिया विराट रूप

इतिहास में पहली बार कार्तिक-अगहन मास की शाही सवारी में इतनी बड़ी तादाद में भक्त अवंतिकानाथ के दर्शन करने अमड़े फूलों व रंगों की रंगोली से सजी शिवनगरी के अतुल्य वैभव को भक्त अपलक निहारते रह गए। आसपास के शहरों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु सवारी देखने के लिए उज्जैन आए थे। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर से सोमवार को निकली भगवान महाकाल की शाही सवारी में आस्था का विराट रूप दिखाई दिया।

इतिहास में पहली बार कार्तिक-अगहन मास की शाही सवारी में इतनी बड़ी तादाद में भक्त अवंतिकानाथ के दर्शन करने अमड़े फूलों व रंगों की रंगोली से सजी शिवनगरी के अतुल्य वैभव को भक्त अपलक निहारते रह गए। आसपास के शहरों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु सवारी देखने के लिए उज्जैन आए थे। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर (Mahakal) से सोमवार को निकली भगवान महाकाल की शाही सवारी में आस्था का विराट रूप दिखाई दिया।

Mahakal

फूलों से सजी पालकी में भगवान महाकाल चंद्रमौलेश्वर (Mahakal) रूप में विराजित होकर भक्तों का हाल जानने निकले। मंदिर के मुख्य द्वार पर सशस्त्र बल की टुकड़ी ने अवंतिकानाथ को सलामी दी। लगभग 7 किलोमीटर लंबे सवारी मार्ग पर भक्तों ने पलक पावड़े बिछाकर राजा महाकाल का स्वागत किया। तेलीवाड़ा,कंठाल,छत्री चौक, मिर्जा नईम बेग मार्ग पर विभिन्ना संस्थाओं ने मंच से पुष्प वर्षा कर सवारी का स्वागत किया।

CM Pushkar Singh Dhami: गन्ना मूल्य बढ़ाये जाने पर किसानों ने जताया सीएम का आभार

कोरोना के नए वैरिएंट से दहशत में दुनिया, पाकिस्तान में भी दिखा ओमिक्रोन का खौफ

Related Articles

Back to top button