लखनऊ में भी बढने लगे कोरोना के मामले, केजीएमयू के डॉ सूर्यकांत ने जताई चिंता

लखनऊ. जिस तरह से देश के कुछ राज्यो में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के केस सामने आए है तो दूसरी तरफ यूपी सहित राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण के केस भी बढ़ रहे है। उसके बाद केजीएमयू रेस्पिरेट्री मेडिसिन विभाग के हेड डॉ सूर्यकांत ने चिंता डॉ सूर्यकांत ने है। डॉ सूर्यकांत ने लोगो से कोरोना गाइडलाइंस का अनुपालन करने की अपील की है। लोगो से मास्क लगाने, हाथों को सैनिटाइज करने, एक दूसरे से हाथ मिलाने से बचने और शोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने की सलाह दी है। डॉ सूर्यकांत का नए वैरिएंट ओमिक्रोन को लेकर कहना है कि ये ज्यादा घातक नही है लेकिन इसके बहुत तेजी से फैलने के चांस ज्यादा है। जो आगे चलकर घातक भी हो सकता है। लिहाजा लोगो को अभी से सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

Spread the love

लखनऊ. जिस तरह से देश के कुछ राज्यो में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के केस सामने आए है तो दूसरी तरफ यूपी सहित राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण के केस भी बढ़ रहे है। उसके बाद केजीएमयू रेस्पिरेट्री मेडिसिन विभाग के हेड डॉ सूर्यकांत ने चिंता डॉ सूर्यकांत ने है। डॉ सूर्यकांत ने लोगो से कोरोना गाइडलाइंस का अनुपालन करने की अपील की है। लोगो से मास्क लगाने, हाथों को सैनिटाइज करने, एक दूसरे से हाथ मिलाने से बचने और शोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने की सलाह दी है। डॉ सूर्यकांत का नए वैरिएंट ओमिक्रोन को लेकर कहना है कि ये ज्यादा घातक नही है लेकिन इसके बहुत तेजी से फैलने के चांस ज्यादा है। जो आगे चलकर घातक भी हो सकता है। लिहाजा लोगो को अभी से सावधानी बरतने की आवश्यकता है।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन का खतरा बना हुआ है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग भी अलर्ट है। ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सैंपलिंग बढ़ा दी है। सैंपलिंग बढ़ने से मरीजों की संख्या भी बढ़ने लगी है। लगातार लोगों को कोविड नियमों का पालन करने पर जोर दे रहा है। इसके बावजूद लोग लापरवाही बरत रहे हैं। भीड़भाड़ वाली जगहों पर बिना मास्क लगाए लोग घूम रहे हैं। जिससे खतरा बना हुआ है। अस्पतालों तक में लोग बिना मास्क के पहुंच रहे हैं।

पीएम मोदी ने शनिवार को बलरामपुर में सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण किया। यह देश की सबसे बड़ी परियोजना है। इस परियोजना से बहराइच, गोंडा, श्रावस्ती, बलरामपुर, बस्ती, सिद्घार्थनगर, संतकबीरनगर, गोरखपुर व महाराजगंज के करीब 29 लाख किसान लाभांवित होंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button