Chardham Yatra: अब केदारनाथ धाम में कम किया गया दर्शन का समय, आने से पहले जान लें ये जरूरी बात

बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने केदारनाथ मंदिर के कपाट खोलने व बंद करने के समय में अब परिवर्तन कर दिया है। साथ ही...

रुद्रप्रयाग। बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने केदारनाथ मंदिर के कपाट खोलने व बंद करने के समय में अब परिवर्तन कर दिया है। साथ ही आम श्रद्धालुओं के लिए भी दर्शनों का समय सीमित कर दिया गया है। अब श्रद्धालु सुबह पांच बजे से केदारनाथ धाम में धर्म दर्शन कर रहे हैं। वहीं, सांयकालीन आरती व श्रृंगार दर्शन के बाद रात्रि को नौ बजे मंदिर ही मंदिर के कपट बंद कर दिए जा रहे हैं। मानसून के सक्रिय होने और यात्रियों की संख्या में आई कमी को देखते हुए ये नई व्यवस्था बनाई गई है।

kedarnath dham

गौरतलब है कि 6 मई से शुरू हुई केदारनाथ यात्रा में इस साल रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। धाम में 59 दिनों में ही दर्शनार्थियों का आंकड़ा 850014 पहुंच गया है। मई और जून महीने में सुबह चार बजे से रात्रि 11 बजे तक बाबा के दर्शन कर रहे थे लेकिन अब, मानसून सक्रिय होने के साथ ही कम होती यात्रियों की संख्या के मद्देनजर बीकेटीसी ने केदारनाथ में सुबह कपाट खोलने, धर्म दर्शन, दोपहर को भोग व विश्राम और सांयकालीन आरती के बाद कपाट बंद करने के समय में भी बदलाव कर दिया है।

बीते एक जुलाई से शुरू हुई इस नई व्यवस्था के बाद अब केदारनाथ में सुबह चार बजे मंदिर के कपाट खोले जा रहे हैं और आम श्रद्धालुओं को सुबह पांच बजे से बाबा के दर्शन कराए जा रहे हैं। इसके बाद दोपहर में तीन बजे बाबा केदार को भोग लगाने के बाद मंदिर की साफ-सफाई व विश्राम के बाद शाम 5 बजे से पुन: मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जा रहे हैं। इसके बाद शाम को 6.30 से 7 बजे तक सांयकालीन आरती की जा रही है। इसके बाद रात्रि 9 बजे मंदिर के कपाट बंद किए जा रहे हैं। बी

लॉकर रूम के लिए सीएस को लिखेंगे पत्र

श्रीबदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष ने कहा है कि वे मुख्य सचिव को केदारनाथ धाम में यात्रियों के लिए लॉकर रूम की सुविधा मुहैया करने को लेकर पत्र लिखेंगे। उन्होंने कहा कि केदारनाथ मंदिर के अंदर मोबाइल फोन ले जाना वर्जित किया जा रहा है। ऐसे में यात्री अपना मोबाइल फोन सुरक्षित स्थान पर रखे, इसके लिए लॉकर रूम की आवश्यकता महसूस की जारी है।

Related Articles

Back to top button