Chardham Yatra 2022: रिकॉर्ड संख्या में पहुंच रहे हैं श्रद्धालु, जानें कितनों की हुई मौत

कोरोना महामारी की वजह से बीते दो साल से बंद पड़ी चारधाम यात्रा इस साल जब बिना किसी प्रतिबंध के सुचारू रूप से चलाई जा रही है। ऐसे में इस साल यहां

चमोली। कोरोना महामारी की वजह से बीते दो साल से बंद पड़ी चारधाम यात्रा इस साल जब बिना किसी प्रतिबंध के सुचारू रूप से चलाई जा रही है। ऐसे में इस साल यहां रिकॉर्ड संख्या में श्रद्धालु पहुंच रहे हैं। आकड़ों पर गौर करें तो इस साल अब चार धामों में दर्शन के12 लाख 83 हजार से अधिक श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। वहीं इस यात्रा के दौरान मृतकों की संख्या भी 106 तक जा पहुंची है।

CHARDHAM YATRA

बताया जा रहा है कि चारधाम यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं की सबसे अधिक भीड़ केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम में देखने को मिल रही है। बद्रीनाथ धाम में अब तक जहां 4 लाख 28 हजार श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। वहीं केदारनाथ धाम में 4 लाख 22 हजार श्रद्धालुओं ने बाबा के दर्शन किए। वहीं गंगोत्री धाम में 2 लाख 38 हजार श्रद्धालु पहुंचे, जबकि यमुनोत्री धाम में 1 लाख 77 हजार श्रद्धालुओं ने दर्शन किये।

उधर सिखों के पवित्र स्थल हेमकुंड साहिब में अब तक 16 हजार से अधिक श्रद्धालु पहुंच चुके हैं। इस साल बीते तीन मई से शुरू हुई तीर्थयात्रा में अब तक 106 श्रद्धालुओं की मौत हो गई है। इनमें से 78 पुरुष और 28 महिलाएं शामिल हैं। सबसे अधिक तीर्थयात्रियों की मौत केदारनाथ धाम में हुई। यहां अब तक करीब 50 यात्रियों की मौत हो चुकी है। वहीं बद्रीनाथ में 21, यमुनोत्री में 28 और गंगोत्री धाम में 7 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है।

बता दें कि उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित चार धाम- बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के रास्ते में ह्रदय संबंधी समस्याओं की वजह से श्रद्धालुओं की मौत की घटनाएं हर साल होती हैं लेकिन इस साल ये संख्या हर बार की अपेक्षा अधिक है। पिछली यात्राओं के आंकड़ों से साफ है कि वर्ष 2019 में 90 से ज्यादा, वर्ष 2018 में 102, वर्ष 2017 में 112 चारधाम तीर्थयात्रियों की मौत हुई थी।

Related Articles

Back to top button