Char Dham Yatra 2022: भीड़ की वजह से रोकी गई केदारनाथ यात्रा, पांच श्रद्धालुओं की हुई मौत

केदारनाथ पैदल मार्ग पर यात्रियों की भीड़ बढ़ने के चलते सोनप्रयाग में यात्रियों को रोक दिया गया। सोनप्रयाग सहित रामपुर और...

रुद्रप्रयाग चिन्यालीसौड़। केदारनाथ पैदल मार्ग पर यात्रियों की भीड़ बढ़ने के चलते सोनप्रयाग में यात्रियों को रोक दिया गया। सोनप्रयाग सहित रामपुर और सीतापुर में लगभग पांच हजार यात्री रोके गई हैं। उधर, दोपहर बाद धाम में मौसम खराब हो गया जिससे यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ी।

Char Dham Yatra

जिला आपदा कंट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार गत दिवस यानी शुक्रवार को सोनप्रयाग से 14,825 यात्रियों को केदारनाथ जाने की इजाजत दी गई। इसके बाद पैदल पड़ावों पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ बढ़ गई जिससे यात्रियों को सोनप्रयाग में ही रोक दिया गया। उधर, केदारनाथ में दोपहर बाद अचानक से मौसम खराब हो गया जिससे हजारों यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

गंगोत्री-यमुनोत्री जा रहे श्रद्धालु लौटाए

एक महीने बाद का रजिस्ट्रेशन लेटर लेकर गंगोत्री और यमुनोत्री के दर्शन के लिए जा रहे सौ यात्रियों को पुलिस ने नगुण से ही वापस कर दिया। ऐसे में यात्री रात भर नगुण बैरियर पर आगे जाने की अनुमति का इंतजार करते रहे लेकिन इजाजत न मिलने से वे सभी लौट गए। धरासू के थानाध्यक्ष दिनेश कुमार का कहना है कि बस कंपनी टीजीएमओ ने इन यात्रियों को गुमराह किया और एक महीने बाद के रजिस्ट्रेशन वाले यात्रियों को लेकर यहां आ गए। उन्होंने बताया कि ऋषिकेश में ठीक से पंजीकरण चेक न होने की वजह से ऐसे यात्री यहां तक पहुंच जा रहे हैं।

5 श्रद्धालुओं की मौत

केदारनाथ और बदरीनाथ की यात्रा पर आए पांच तीर्थ यात्रियों की शुक्रवार को हार्ट अटैक से मौत हो गई।केदारनाथ में दर्शन करने आये पटेल धानिश भाई बिकू (32), गुजरात व भानुशंकर प्रसाद (71), बिहार की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई। बता दें कि केदारनाथ में अब तक 44 यात्रियों की जान जा चुकी है। उधर, बदरीनाथ में शुभांगी (57) निवासी पुणे, रामबाई यादव (80) निवासी छत्तीसगढ़ और गज्जू महतो (60) निवासी झारखंड की मौत हो गई हैं। बदरीनाथ धाम में अब तक कुल 12 श्रद्धालुओं की मौत हो चुकी है।

Related Articles

Back to top button