Champawat by-election: रिकॉर्ड मतों से जीते पुष्कर धामी, कांग्रेस प्रत्याशी की जमानत भी हुई जब्त

उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत उपचुनाव में उम्मीद में भारी जीत हासिल कर ली है। उन्होंने रिकॉर्ड 54,121 मतों से कांग्रेस...

देहरादून। उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत उपचुनाव में उम्मीद में भारी जीत हासिल कर ली है। उन्होंने रिकॉर्ड 54,121 मतों से कांग्रेस की निर्मला गहतोड़ी को शिकस्त दी है। मुख्यमंत्री धामी के खिलाफ मैदान में उतरी कांग्रेस प्रत्याशी अपनी जमानत भी ना बचा सकीं। इस जीत के साथ ही पुष्कर धामी ने अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी भी बचा ली है और खटीमा में मिली खटास भी दूर हो गई है। राज्य में लगातार दूसरी बार बीजेपी को सत्ता में लाने वाले पुष्कर ने इस जीत से खुद को ‘फायर’ साबित कर दिया।

cm dhami

13 चरण की कुल काउंटिंग में पुष्कर सिंह धामी को कुल 57268 वोट प्राप्त हुए जबकि कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी को मात्र 3147 वोटों से ही संतोष करना पड़ा। वे अपनी जमानत तक ना बचा सकीं। सपा प्रत्याशी मनोज कुमार को महज 409 मत ही मिले। वहीं निर्दलीय प्रत्याशी हिमांशु गरकोटी को 399 और 372 वोटरों ने नोटा का बटन दबाया।

बता दें कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस जीत के साथ इतिहास रच दिया। धामी ने उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों/उपचुनावों में सबसे बड़े अंतर से जीत दर्ज की। इससे पहले यह रिकॉर्ड पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के नाम था। बहुगुणा ने साल 2012 के सितारंगज में हुए उपचुनाव में प्रकाश पंत को 39,954 वोटों से हराया था।

खटीमा में 5800 वोटों से हारे थे धामी

इससे पहले साल 2017 से 2022 के बीच उत्तराखंड में बीजेपी को तीन मुख्यमंत्री बदलने पड़े लेकिन जब पार्टी के युवा नेता धामी को प्रदेश की कमान मिली तो उन्होंने जिस तरह कुछ महीनों में ट्रेलर दिखाया उसे देखते हुए जनता ने पार्टी को 5 साल के लिए दोबारा मौका दे दिया दिया। हालांकि, भाजपा के रंग में उस समय भंग पड़ गया जब धामी खुद विधानसभा चुनाव में खटीमा से कांग्रेस प्रत्याशी भुवन चंद्र कापड़ी से 5800 वोटों से हार गए। खटीमा से हार के बावजूद भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने धामी पर भरोसा जताया और राज्य की कमाना सौंप दी।

 

Related Articles

Back to top button