बैंको के नीजीकरण को लेकर BJP सांसद वरुण गांधी ने अपनी ही सरकार पर बोला हमला, कह दी ये बड़ी बात

बरेली. भारतीय जनता पार्टी से पीलीभीत के सांसद वरुण गांधी ने एक बार फिर से सरकार पर निशाना साधा है। वरुण गांधी ने जहां एक ओर बैंकों के निजीकरण कर विरोध किया तो वही अमेजन, फ्लिपकार्ट और रिलायंस पर हमला बोला। वरुण गांधी ने कहा कि किसानो के हित मे केवल मैं खड़ा हुआ था बाकी किसी सांसद की हिम्मत नही हुई।

Spread the love

बरेली. भारतीय जनता पार्टी से पीलीभीत के सांसद वरुण गांधी ने एक बार फिर से सरकार पर निशाना साधा है। वरुण गांधी ने जहां एक ओर बैंकों के निजीकरण कर विरोध किया तो वही अमेजन, फ्लिपकार्ट और रिलायंस पर हमला बोला। वरुण गांधी ने कहा कि किसानो के हित मे केवल मैं खड़ा हुआ था बाकी किसी सांसद की हिम्मत नही हुई।

बरेली के बहेड़ी में अलग अलग गांव के निरीक्षण पर पहुचे वरुण गांधी ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि अगर बैंको का निजीकरण होगा तो जो 10 लाख लोग बेरोजगार होंगे, उनको दोबारा रोजगार कौन देगा, उनके बच्चो को कौन खिलायेगा। अगर bsnl, mtnl, एयरपोर्ट, एयरलाइन बिकेंगे। तो आम आदमी के बेटे को नौकरी कौन देगा। आज एक आदमी आदमी नौकरी के लिए जाता है तो उससे उसकी काबिलियत नही पूछी जाती उससे कहा जाता है रिश्वत कितनी दोंगे। आपकी किसकी सिफारिश लाये है और इससे हमारा देश दीमक की तरह कमजोर होता है। आने वाले समय मे एक आम आदमी को रोजगार ढूढ़ने में दिक्कत आएगी।

बीजेपी सांसद ने कहा किसानों का जब आंदोलन हुआ तो केवल वरुण गांधी ही बोला और कोई सांसद हिम्मत नही किया पूरे देश मे बोलने की, क्योंकि हर आदमी केवल अपनी राजनीति देख रहा है। ऐसे लोगो की जरूरत है देश मे जो देश की दशा और दिशा के बारे में सोच रहे है।

वरुण गांधी ने कहा कि किसान को लोन के लिए बहुत सारे कागज देने होते है और जो 10 हजार करोड़ का लोन लेता है उसे कोई कागज नही देना होता और जब वो पैसे नही देता तो कहा जाता है 50 परसेंट देदो। लेकिन आम आदमी के घर की कुर्की हो जाती है उसे बेइज्जत किया जाता है। मैं चाहता हु आप सभी मेरा साथ दे, बहुत सारे लोग अपने स्वार्थ में राजनीति करते है। जिनके पैरों में चप्पल नही है वो बड़ी बड़ी कोठिया बना रहे है, बड़ी बड़ी कालोनिया काट रहे है। लेकिन वरुण गांधी इसी गाड़ी में आये थे चुनाव में आज भी इसी गाड़ी में आये और अगले चुनाव में भी इसी गाड़ी में आये। लेकिन जब आपके गांव में कोरोना की दिक्कत थी, तो सारा ऑक्सीजन, दवाइयां, खाने के पैकेट वरुण गांधी ने अपने पैसो से दिए।

अगर हर चीज अमेजॉन, फ्लिपकार्ट, रिलायंस पर जाएगा तो छोटे व्यापारी का क्या होगा। ये लोग कहा जायेगे और क्या करेंगे। जब ये सुपर मार्केट वाले 1000 लोगो को रोजगार देंगे तो 10 हजार लोगों का रोजगार छिनेगा। जब अडानी को कॉन्ट्रेक्ट मिला हिमाचल के सेव के ठेके का तो उसके बाद सेव के दाम आधे हो गए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button