Basant Panchami: बसंत पंचमी पर ऐसे करें सरस्वती जी की पूजा, मिलेगा मनचाहा फल

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती के पूजन से विद्या, बुद्धि और ज्ञान का वरदान मिलता है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन शिक्षा आरम्भ करने की परंपरा है। साथ ही शिक्षा,साहित्य, संगीत और कला क्षेत्र से जुड़े लोग भी इस दिन मां सरस्वती का पूजन करते हैं।

धर्म डेस्क. बसंत पंचमी को सरस्वती जयंती के नाम से भी जाना जाता है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती के पूजन से विद्या, बुद्धि और ज्ञान का वरदान मिलता है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन शिक्षा आरम्भ करने की परंपरा है। साथ ही शिक्षा,साहित्य, संगीत और कला क्षेत्र से जुड़े लोग भी इस दिन मां सरस्वती का पूजन करते हैं।

बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती के पूजन से शिक्षा और परीक्षा में सफलता मिलती है। पंचांग के अनुसार इस साल बसंत पंचमी के 05 फरवरी, दिन शनिवार को मानाई जाएगी। इस दिन सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 07 बजकर 07 मिनट से दिन में 12 बजकर 35 मिनट तक है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को प्रसन्न करने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए मां सरस्वती के इन मंत्रों का जाप करना चाहिए। पूजन की शुरूआत में मां सरस्वती की वंदना जरूर करें और उन्हें सफेद या पीले रंग के फूल चढ़ाना चाहिए।

1-मां सरस्वती की वंदना –

बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजन में मां सरस्वती की वंदना इस मंत्र से करनी चाहिए। इस मंत्र का पाठ करने से विद्यार्थियों को अच्छे अंक, शिक्षा और परीक्षा में सफलता मिलती है।

या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता।

या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना॥

या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता।

सा माम् पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥1॥

शुक्लाम् ब्रह्मविचार सार परमाम् आद्यां जगद्व्यापिनीम्।

वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्॥

हस्ते स्फटिकमालिकाम् विदधतीम् पद्मासने संस्थिताम्।

वन्दे ताम् परमेश्वरीम् भगवतीम् बुद्धिप्रदाम् शारदाम्॥2॥

2-विद्यारम्भ का मंत्र-

जो लोग बसंत पंचमी के दिन विद्या आरंभ कर रहे हों, उन्हें इस मंत्र का जाप करना चाहिए…

।। ऊँ सरस्वती नमस्तुभ्यं वरदे कामरुपिणि विद्यारंबम करिष्यामि सिद्धिर बावतुमे सधा ।।

3- इस मंत्र का जप बसंत पंचमी के दिन जपने से अज्ञानता और बुराइयों का नाश होता है।

।। ऊँ ऐंग सरस्वतीये नमः ऊँ ।।

Related Articles

Back to top button