महीने भर से लापता बिजनेसमैन को नहीं ढूढ़ पाई पुलिस, फिर हो गया यह खौफनाक हादसा

नैनीताल-हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भुजियाघाट के निकट जंगल से गुजरती गूल में एक सदा गला शव मिलने से हड़कंप मच गया। मिलने की सूचना पर पहुंची पुलिस शव की पहचान 32 दिन पहले लापता...

Spread the love

देहरादून। नैनीताल-हल्द्वानी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भुजियाघाट के निकट जंगल से गुजरती गूल में एक सदा गला शव मिलने से हड़कंप मच गया। मिलने की सूचना पर पहुंची पुलिस शव की पहचान 32 दिन पहले लापता हुए कारोबारी पवन कन्याल (35) पुत्र स्व. किशन सिंह कन्याल निवासी सुभाष नगर भोटियापड़ाव के रूप में की। परिजनों ने भी शव के पहचान कर ली है। सड़े गले शव को देखकर लग रहा है यह काफी पुराना है। फ़िलहाल पुलिस ने जांच के लिए शव को फॉरेंसिक टीम के पास भेज दिया है।

businessman's body

दरअसल ज्योलीकोट क्षेत्र में कुछ महिलाएं बीते शुक्रवार को जंगल घास लेने गई थीं तभी उन्हें गूल में एक पड़ा शव दिखाई दिया। उन्होंने इसकी पुलिस को दी। सूचना पाकर ज्योलीकोट चौकी इंचार्ज जोगा सिंह टीम के साथ मौके पर पहुँच गए और शव को कब्जे में लिया। चौकी प्रभारी ने बताया कि मृतक का चेहरा भी लगभग सड़ चुका है। ऐसे में शव की शिनाख्त में कठिनाई हो रही है। इधर शव मिलने की सूचना पर पवन कन्याल के परिजन भी वहां पहुंच गए। उन्होंने हाथ में कड़ा और कपड़ों से शव की शिनाख्त की।

एसपी सिटी हल्द्वानी डॉ. जगदीश चन्द्र ने बताया कि पवन के जीजा और परिजनों ने शव शिनाख्त की है। हालाँकि अभी मौत के कारण स्पष्ट नहीं हो पाया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही कुछ स्पष्ट हो सकेगा। इस घटना के बाद अब पुलिस की कार्यशैली पर एक बार फिर सवाल उठ रहे हैं। दरअसल पवन कत्याल को ढूंढने के लिए पुलिस ने भुजियाघाट का लगभग 5 किमी जंगल छान मारा था, वहीं पर कारोबारी का शव मिला है। अब पुलिस अलग-अलग पहलुओं पर जांच कर रही है।

बता दें कि पवन कत्याल बीते 16 अगस्त को अपनी कार लेकर घर से ट्रांसपोर्टनगर जाने के लिए निकले थे लेकिन वापस नहीं लौटे जिसके बाद परिजनों ने उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। 17 अगस्त को एसपी सिटी ने 3 टीमें गठित की। सीसीटीवी फुटेज में अंतिम लोकेशन भुजियाघाट मिली। इसके बाद पुलिस की कई टीमों ने वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी में जंगल में कांबिंग की। डॉग स्क्वॉड की भी मदद ली गई, लेकिन पुलिस कारोबारी का पता नहीं लगा सकी। अब उसी जंगल में शव मिलने पर सर्च अभियान पर सवाल उठ रहे हैं।

पुलिस के अनुसार भुजियाघाट में जिस स्थान पर कारोबारी की कार मिली। उससे करीब 700 मीटर ज्योलीकोट की ओर जाकर फिर सड़क से करीब 500 मीटर नीचे गूल में कारोबारी का शव मिला है। जहां शव मिला वहां आने जाने का कोई रास्ता नहीं हैं। यही वजह है कि पुलिस टीम वहां जांच के लिए नहीं गई और कार मिलने वाले स्थान पर ही खोजबीन करते रही। इधर कारोबारी के परिजनों ने पवन के अपहरण की भी आशंका जताई थी। जबकि पुलिस कहती रही कि पवन ने उधार लिया है वह भाग गया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button