पाकिस्तानी पीएम इमरान खान के तालिबानी विचार, कहा- मोबाइल की वजह से लड़कियां हो रही हैं खराब |

Spread the love

इमरान खान के तालिबानी विचार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने यौन उत्पीड़न को मोबाइल फोन के दुरुपयोग से जोड़कर एक बार फिर विवादित बयान दिया है। आधुनिक तकनीक के ‘सही उपयोग’ के बारे में बोलते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को कहा कि, मोबाइल फोन के “दुरुपयोग” के कारण पाकिस्तान में यौन अपराध बढ़ रहे हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ये बयान उस लड़की टिकटॉकर के साथ हुई गंदी हरकत के बाद दिया है, जिसे पाकिस्तान के लाहौर शहर के मीनार-ए-पाकिस्तान में सैकड़ों हैवानों ने घिनौना काम किया था। लाहौर के ग्रेटर इकबाल में मीनार-ए-पाकिस्तान के पास 14 अगस्त को पाकिस्तानी स्वतंत्रता दिवस के दिए एक लड़की टिकटॉक से वीडियो बना रही थी, उसी दौरान सौ से ज्यादा लोगों की भीड़ ने उसे घेर लिया और फिर लड़की के साथ काफी घिनौनी हरकत की गई थी। उसी घटना पर बोलते हुए इमरान खान ने मोबाइल फोन को लड़कियों के खराब होने के लिए जिम्मेदार बता दिया।

मोबाइल से चरित्र निर्माण पर खतरा!

बुधवार को लाहौर में पंजाब शिक्षा सम्मेलन को संबोधित करते हुए पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि आधुनिक तकनीक की मदद से युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के अलावा, सीरत-ए-नबी के उच्चतम गुणों के बारे में मार्गदर्शन देना और उनके विचारों के बारे में उन्हें शिक्षित करना जरूरी है। मीनार-ए-पाकिस्तान की घटना पर रोशनी डालते हुए इमरान खान ने कहा कि, ऐसे मामले बढ़ रहे हैं क्योंकि बच्चों को सही शिक्षा नहीं दी जा रही है। पाकिस्तानी मीडिया ने इमरान खान के हवाले से कहा कि, “मोबाइल फोन के दुरुपयोग के कारण यौन अपराध बढ़ रहे हैं।” “हमें अपने बच्चों को सीरत-ए-नबी के सर्वोच्च गुणों के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है”।

महिला अपराध पर अजीब-ओ-गरीब विचार

यौन उत्पीड़न के संबंध में इमरान खान पहली बार ऐसे घिनौने विचार नहीं दिए है। बल्कि महिला अपराधों के बढ़ने के पीछे इमरान खान लगातार महिलाओं को बच्चियों को ही जिम्मेदार ठहराते आए हैं। इस साल की शुरुआत में एचबीओ पर एक्सियोस के साथ एक लाइव टेलीविजन इंटरव्यू के दौरान इमरान खान ने कहा था कि ”महिलाओं के साथ बलात्कार इसलिए होते हैं, क्योंकि आजकल की महिलाएं ‘टाइट कपड़े’ पहनती हैं और उससे लड़के उत्तेजित हो जाते हैं”। इमरान खान के इस बयान की पूरी दुनिया में निंदा की गई थी। इमरान खान ने कहा था कि, “अगर कोई महिला टाइट कपड़े या कम कपड़े पहनती है, तो पुरुषों पर इसका प्रभाव तभी नहीं पड़ेगा, अगर वो रोबोट हो। यह सामान्य ज्ञान है,”। उसी इंटरव्यू में इमरान खान ने ‘पर्दा’ को भी महिलाओं के लिए जरूरी बताया था।

पर्दा को बताया जरूरी

इसके साथ ही उसी इंटरव्यू के दौरान पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने महिलाओं के लिए ‘पर्दा’ को जरूरी बताया था। इमरान खान ने कहा था कि महिलाओं को पर्दे में रहना चाहिए और उन्हें अपने शरीर को ढंक कर रखना चाहिए। इमरान खान के पर्दा वाले बयान की निंदा पूरी दुनिया में की गई थी। बांग्लादेश की मशहूर लेखिका तसलीमा नसरीन ने इमरान खान का वो वीडियो शेयर करते हुए उन्हें आईना दिखाने की कोशिश की, जिसमें वो शर्टलेस होकर लंदन में महिलाओं के साथ समुद्र में नहा रहे हैं। पाकिस्तान की सिविल सोसाइटी और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री इमरान खान की इस टिप्पणी पर गहरा ऐतराज जताया है। एक मानवाधिकार कार्यकर्ता ने तो यहां तक कहा कि इमरान खान के ऊपर तालिबान का असर है तो एक कार्यकर्ता ने इसे इमरान खान का तालिबानी विचार बताया है। इसके साथ ही पाकिस्तान की महिलाओं ने इमरान खान से उनके बयान के लिए माफी मांगने को कहा है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button