कोरोना वैक्‍सीन कोवोवैक्‍स का ट्रायल जल्‍द शुरू हो रहा , बच्‍चों के लिए.

Spread the love

अगले कुछ हफ्तों में कोवोवैक्‍स (covovax) के ट्रायल के दूसरे और तीसरे चरण की तैयारी है. ये बाल चिकित्‍सा परीक्षण हैं जो पूरे देश में होंगे. इसके लिए नाबालिगों और बच्‍चों का  नामांकन बस शुरू होने ही वाला है. मुंबई में यह नायर अस्‍पताल में होगा. द टाइम्‍स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिकी बायोटेक्‍नोलॉजी फर्म नोवावैक्‍स द्वारा विकसित पुन:संयोजक नैनोपार्टिकल प्रोटीन-आधारित वैक्‍सीन  NVX-CoV2373 को भारत में कोवोवैक्‍स के नाम से ब्रांडेड किया गया है. यह भारत में बच्‍चों के लिए क्लिनिकल परीक्षण से गुजरने वाला चौथा कोविड वैक्‍सीन (Covid vaccine) होगा.

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने देश में 10 स्‍थानों पर 920 नाबालिगों से जुड़े परीक्षणों के लिए हरी झंडी दे दी है. इसमें अलग-अलग आयु वर्ग में ट्रायल डिजाइन किया गया है. इसमें पहले 12-17 वर्ष की आयु के नाबालिगों का नामांकन और उसके बाद 2-11 साल के आयु वर्ग में बच्‍चों का नामांकन होगा. ऐसा बताया गया है कि वैक्‍सीन निर्माता सीरम इंस्‍टीट्यूट सितंबर तक भारत में वयस्‍कों के लिए और साल के अंत तक नाबालिगों के लिए कोवोवैक्‍स लांच करने के लिए नोवावैक्‍स के साथ पार्टनरशिप कर रहा है.

 

बच्चों पर कैसे होता है ट्रायल?
बच्चों में वैक्सीन का ट्रायल दो चरणों में किया जाता है. पहले फेज में बच्चों पर अलग-अलग डोज का इस्तेमाल किया जाता है. 6 महीने से 1 साल के बच्चों को 28 दिन के अंतराल पर 25, 50 और 100 माइक्रोग्राम लेवल की डोज दी जाती है, जबकि 2 से 11 साल के बच्चों को 50 और 100 माइक्रोग्राम लेवल की दो डोज 28-28 दिन के अंतराल पर दी जाती है. बच्चों को वैक्सीन की दो डोज देने के बाद 12 महीने तक उनके स्वास्थ्य की लगातार निगरानी की जाएगी. उसके सफल होने के बाद ही ट्रायल को कम्प्लीट माना जाएगा.

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button