अतुल राय दुष्कर्म मामला: पीड़िता और गवाह पर दबाव बनाने के लिए आरोपी सांसद ने दर्ज कराए थे सात मुकदमे.

Spread the love

दुष्कर्म के आरोप में प्रयागराज के नैनी जेल में बंद बसपा सांसद अतुल राय के सहयोगियों नेे पीड़िता और गवाह पर दबाव बनाने के लिए सात मुकदमे दर्ज कराए थे। बीच-बीच में पीड़िता और गवाह को धमकी भी दी जाती थी। पीड़िता ने 10 नवंबर 2020 को तत्कालीन एसएसपी वाराणसी को आरोपी सांसद और उनके लोगों की ओर से दी जा रही मानसिक व शारीरिक यातनाएं दिए जाने की शिकायत की थी। मगर, पुलिस ने पीड़िता के शिकायत पत्रों की पूरी तरह अनदेखी की। हालांकि अब पुलिस पीड़िता और गवाह को धमकी व यातनाएं देने वालों की पहचान कर कार्रवाई करेगी।

सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का मुकदमा कराने वाली पीड़िता और उसके गवाह ने अपनी सुरक्षा के लिए पुलिस अधिकारियों के सामने खूब गुहार लगाई थी। मगर, तत्कालीन एसएसपी ने पीड़िता के शिकायती पत्रों पर गंभीरता नहीं दिखाई दी थी। जबकि एक साल पहले पीड़िता ने शिकायती पत्र में साफ लिखा था कि अतुल राय के लोग केस कमजोर करने और साक्ष्य मिटाने का प्रयास कर रहे हैं। उसने यह भी शिकायत की थी कि मेरे गवाह के नाम को किसी अपराधी के साथ जोड़कर दिखाया जा रहा है। इससे व्यथित मेरे गवाह ने आत्मदाह करने की बात कर रहा था और मेरे काफी मना करने के बाद वह माना था।

ऐसे में साफ है कि पीड़िता और उसके गवाह को दबाव बनाकर विचलित किया जा रहा था। मगर, पुलिस की लापरवाही की वजह से उन्हें किसी तरह की मदद नहीं मिल पाई। पीड़िता की ओर से सांसद अतुल राय पर मऊ सदर विधायक और माफिया मुख्तार अंसारी से भी करीबी का आरोप लगाया जाता रहा था। हालांकि अब अतुल राय और उसके परिजन उसकी जान को मुख्तार अंसारी और उसके गुर्गों से खतरा बताते हैं।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button